Tuesday , 6 December 2016
Breaking News

चंचल हो गई चांदी और सोने की हो गई ‘चांदी’

chandiशहर में सोना-चांदी का व्यापार पूरी तरह से ठप हो गया। सुबह दुकानें व शोरूम खुलने से पहले ही ‘स्मार्ट खरीददारÓ ५०० और १००० रुपए के लाखों के नोट लेकर पहुंच गए। एक नामी ज्वैलर के बाहर तो कई ‘एजेंटÓ गार्ड से बार-बार शोरूम खुलने के बारे में पूछते रहे। जैसे ही शोरूम खुला उन्होंने  बड़े तत्काल सोना और चांदी खरीद कर बड़े नोटों से छुटकारा पा लिया। एक अन्य शोरूम के संचालक ने बताया कि अलसुबह लोगों ने उन्हें फोन कर सोना-चांदी के बारे में पूछना शुरू कर दिया व शोरूम खुलते ही आ धमके। इधर, बड़े नोटों के बंद होने से शहर का पूरा सर्राफा व्यवसाय शून्य के घेरे में आ गया। कुछ समय खुलने के बाद व्यापार बंद हो गया। थोड़े समय के लिए हुई बिक्री के दौरान सोने के भाव में बहुत उतार-चढ़ावा आता रहा। बाद में कई लोग सुनारों के घर जा पहुंचे। प्रतिष्ठित व्यापारियों ने बड़े नोट  बंद होने से व्यापार बंद कर दिया तथा आरटीजीएस चेक से ही लेनदेन किया गया। श्री सर्राफा एसोसिएशन उदयपुर के अध्यक्ष इंदरसिंह मेहता ने बताया कि सुबह सोने का भाव ३० हजार हो गया, थोड़ी देर बाद ३८ हजार हो गया। उसके बाद उदयपुर का व्यापार शून्य हो गया क्योंकि लोगों के पास छोटी राशि उपलब्ध ही नहीं थी। यह स्थिति एक हफ्ते रह सकती है। उन्होंने बताया कि लगभग ५ करोड़ का उदयपुर में रोज का व्यापार होता है। इधर, गुरुवार को ३.३० बजे शीतनाथजी मंदिर में व्यापार की दशा और दिशा पर चर्चा होगी। इधर, व्यवसायी नरेंद्र सिंघवी ने बताया कि व्यापार तो ठप हो गया है क्योंकि मार्केट में छोटे नोट नहीं है। फिलहाल लोग स्तब्ध हैं। ज्वैलरी के लिए शादी का यह सीजन फिलहाल मुश्किलों भरा होगा मगर पांच से सात दिन में स्थिति सुधर जाएगी।